Donate

चिडी चोंच भर ले गयी, नदी न घटीयो नीर
दान देत धन ना घटे, कह गये दास कबीर

please wait...